Religious festivals, rituals & Tattva Shakti Vigyaan

Beloved TSV Practitioners,

Shivoham!

Our beloved Master, Acharya Agyaatdarshan Anand Nath sheds light on the scientific aspect of the timings and rituals of religious festivals in an article of daily Hindusthan.. He hints about role of elemental energy balance especially during certain occasions (called Parvas). In his own words..

“हमें ‘पर्व’ के सिद्धांत को समझ लेना जरूरी है । पर्व का अर्थ है पूर्ण, भरा हुआ, जुड़ा हुआ अथवा गाँठयुक्त । इस तथ्य के प्रकाश में इस जगत में जहां भी पूर्णता या संक्रांति परिलक्षित होती है – वह पर्व है, ऐसा जानना चाहिए । जब सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रविष्ट होता है तो उसे संक्रांति कहते हैं । इस तरह पर सूर्य के विचरण से बारह संक्रांतियां होती हैं – इस प्रकार बारह पर्वो के योग से एक वर्ष बनता है । रात और दिन की संधि सूर्य की दैनिक संक्रांति है अतः सूर्योदय व सूर्यास्त भी पर्व हैं और इन पर्वों में पूजापाठदि की प्रधानता रहती है । “

On one of his talks he once said..  No one understands why they start getting deep urge of alcohol. It is the energy of “Parv” i.e. transition of day to night. If you have not trained your mind to direct energies in sattvik karmas you will land up doing “sandhya-upasana” in bars. So true!

– Shakti Devpriya

Maghi

About Sacred Tattva

One thought on “Religious festivals, rituals & Tattva Shakti Vigyaan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *